Term Plan Covid 19 Infected Person Insurance Companies Put Condition Makes Term Plan Costly And Demand Medical Reports


Term Plan For Covid 19 Infected: अगर आप जीवन बीमा पॉलिसी ( Life Insurance Policy) यानि टर्म प्लान (Term Plan) लेना चाहते हैं और आप कोरोना मरीज ( Covid 19 Patient) रहे हैं तो आपको तीन महीने के समय के लिए इंतजार करना होगा. कोरोना वायरस ( Corona Virus) से  इंफेक्टेड व्यक्ति पर इंफेक्शन का कैसा प्रभाव पड़ा है, क्या अस्पताल में भर्ती करने की आवश्यकता पड़ी है इसे भी बीमा कंपनियां देखेंगी. हो सकता है कि आपको कई प्रकार के मेडिकल टेस्ट रिपोर्ट के साथ चेस्ट एक्सरे रिपोर्ट भी देना पड़े. इन रिपोर्टों के आधार पर बीमा कंपनियां टर्म प्लान देंगी. 

जो भी व्यक्ति टर्म प्लान लेना चाहते हैं उनके लिए कोविड डिक्लेयरशन फॉर्म भरना ( Covid 19 Declaration Form) अनिवार्य होगा. जिसमें ये बताना होगा कि क्या आप 90 दिनों के भीतर कोरोना वायरस से पीड़ित ( Covid 19 Infected) हुए हैं. इनफेक्शन के आधार पर बीमा कंपनियां आपसे अलग अलग टेस्ट रिपोर्ट ( Medical Test Reports) भी मांग सकती है. कोरोना वायरस के इंफेक्टेड ( Covid 19 Infected) व्यक्ति के लिए बीमा पॉलिसी लेना कठिन होता जा रहा है. बीमा कंपनियां पहले के मुकाबले कम रकम की बीमा दे रही हैं. 50 साल से ज्यादा उम्र के व्यक्ति को पहले के मुकाबले कम रकम का बीमा कवर कंपनियां दे रही हैं. 

अलग अलग बीमा कंपनियों ने कोरोना वायरस से इंफेक्टेड  Covid 19 Infected)लोगों को टर्म प्लान देने के लिए अलग अलग नियम बनाये हैं. इंडिया फर्स्ट लाइफ इंश्योरेंस में कोरोना इंफेक्टेड रहे व्यक्ति के लिए टर्म प्लान लेने के लिए 30 दिनों से लेकर छह महीने का वेटिंग पीरियड है. अगर कोई कोरोना मरीज होम क्वरानटाईन रहा है तो उसे 30 दिनों तक इंतजार करना होगा. होम क्वरानटाईन के साथ किसी को गंभीर बीमारी है तो उसे 60 दिनों तक इंतजार करना होगा. जिसे अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा है उसे टर्म प्लान लेने के लिए छह महीने तक इंतजार करना पड़ सकता है. कोरोना काल में ज्यादा क्लेम के बाद बीमा कंपनियों ने टर्म प्लान 10 से 30 फीसदी तक महंगा कर दिया है बावजूद इसके उन्होंने टर्म प्लान देने के लिए कई प्रकार की शर्तें लगाई हुई हैं.  माना जा रहा है आने वाले दिनों में बीमा कंपनियां प्रीमियम रेट में और भी बढ़ोतरी कर सकती हैं.   

मेडिक्लेम पॉलिसी पर भी इसका असर दिख रहा है. ग्रुप मेडिक्लेम पॉलिसी में बीमा कंपनियां सीनियर सिटीजन और कर्मचारियों को अभिभावकों को मेडिक्लेम पॉलिसी देने में आना कानी कर रही हैं. 

ये भी पढ़ें: 

DA Hike: पेंशनधारकों को बड़ी राहत, जल्‍द क्रेडिट की जाएगी उनके पेंशन खाते में इस भत्ते के पैसे!

Explainer: जानिए क्यों नई इनकम टैक्स स्लैब की व्यवस्था है टैक्सपेयर्स के बीच बेहद अलोकप्रिय



Source link

Leave a Comment