Microsoft Urges Apple Users To Implement MacOS Security Settings Immediately, Know Why


Microsoft Apple Security Setting:  माइक्रोसॉफ्ट ने एप्पल के मैक ओएस में सिक्योरटी के बारे में बताया है, जो OS में ट्रांसपेरेंसी, कॉन्सेंट और कंट्रोल (TCC) तकनीक को दरकिनार करके हैकर्स को यूजर डेटा तक एक्सेस दे सकता है. Microsoft के मुताबिक  Microsoft Security Vulnerability Research (MSVR) के माध्यम से Apple को इसकी सूचना दी गई थी. नतीजतन, एप्पल ने 13 दिसंबर, 2021 को जारी सुरक्षा अपडेट के पार्ट के रूप में सीवीई-2021-30970 के रूप में इसके लिए एक सिक्योरिटी पैच भी जारी किया. इस बीच, माइक्रोसॉफ्ट ने मैक ओएस यूजर्स से इन सुरक्षा सेटिंग्स को जल्द से जल्द लागू करने की अपील की है.

ट्रांसपेरेंसी, कॉन्सेंट और कंट्रोल तकनीक या TCC एक सबसिस्टम है, जिसे Apple ने 2012 में macOS माउंटेन लायन में पेश किया था. TCC तकनीक ऐप्स को यूजर की सहमति और नॉलेज के बिना उनकी व्यक्तिगत जानकारी तक पहुंचने से रोकने के लिए है. TCC से संबंधित सेटिंग्स macOS में सिस्टम प्रेफरेंसेज (System Preferences > Security & Privacy > Privacy) में पाई जा सकती हैं.

यह भी पढ़ें: Titan ने लॉन्च किया स्मार्ट चश्मा, रास्ता बताने, सेल्फी लेने और कॉल करने से लेकर आपका ख्याल भी रखेगा

TCC की मदद से, यूजर्स अपने मैकबुक की प्राइवेसी सेटिंग्स जैसे कैमरा या माइक्रोफोन सेटिंग्स या अपने iCloud अकाउंट को कॉन्फिगर कर सकते हैं. एप्पल ने टीसीसी के लिए एक सुरक्षा उपाय भी स्थापित किया जो अनऑथराइज्ड कोड एग्जीक्यूशन को रोकता है और एक पॉलिसी भी लागू करता है जो सीमित टीसीसी को केवल पूरी डिस्क एक्सेस वाले अनुप्रयोगों तक पहुंचने देता है.

यह भी पढ़ें: Jio Airtel VI के ये हैं 200 रुपये से कम में आने वाले अनलिमिटेड प्लान, साथ में ये भी फ्री

माइक्रोसॉफ्ट ने एक ब्लॉग पोस्ट में कहा “हमने पाया कि टारगेट यूजर्स की होम डायरेक्टरी को प्रोग्रामेटिक रूप से बदलना और नकली टीसीसी डेटाबेस लगाना संभव है, जो ऐप अनुरोधों के कंसेंट हिस्ट्री को स्टोर करता है. यदि पैच को फिक्स नहीं किया जाता है तो हैकर्स यूजर के डेटा तक पहुंच बना सकते हैं. उदाहरण के लिए, हमलावर डिवाइस पर इंस्टॉल किए गए ऐप को हाईजैक कर सकता है या अपना खुद का ऐप इंस्टॉल कर सकता है और निजी बातचीत रिकॉर्ड करने के लिए माइक्रोफोन एक्सेस कर सकता है या यूजर्स की स्क्रीन पर प्रदर्शित संवेदनशील जानकारी के स्क्रीनशॉट को कैप्चर कर सकता है.”

यह भी पढ़ें: OnePlus 10 Pro Launched: वनप्लस 10 प्रो लॉन्च, नए डिजाइन 6.67 इंच डिस्प्ले और 80W के चार्जर समेत ये हैं फीचर्स



Source link

Leave a Comment