Investment Strategy Want To Raise Rs 5 Crore In 15 Years Will Have To Invest In This Way


Investment Strategy: अगर आप कम सैलरी पाते हैं तो आपको 5 करोड़ रुपये जमा करना एक असंभव काम लग सकता है. लेकिन ऐसा करना बिल्कुल संभव है लेकिन इसकी दो शर्तें हैं पहली- आपको निवेश जल्द शुरू करना होगा, दूसरी- आपको निवेश लगातार जारी रखना होगा. दरअसल अगर आप इनकम का एक हिस्सा हर महीने निवेश करें तो 15 वर्षों में 5 करोड़ रुपये जमा किए जा सकते हैं. इस काम के लिए म्युचुअल फंड सबसे सही ऑप्शन है. आज हम आपको वो ट्रिक बताएंगे जिसकी मदद से आप 15 वर्षों में 5 करोड़ रुपये का फंड बना सकते हैं: –

एसआईपी

  • जिन लोगों के पास एक बार में बड़ी रकम निवेश करने के लिए नहीं होती है, उन्हें म्यूचुअल फंड में व्यवस्थित निवेश योजना (एसआईपी) का विकल्प अपनाना चाहिए
  • लंबी अवधि के निवेशक अपने म्यूचुअल फंड एसआईपी पर सालाना 12 फीसदी रिटर्न की उम्मीद कर सकते हैं.

ये रणनीति अपनाएं:

  • 15 वर्षों में 5 करोड़ रुपये जमा करने के लिए निवेशकों को अपनी सालाना इनकम में वृद्धि करनी होगी साथ ही अपनी एसआईपी को भी सालाना आधार पर बढ़ाना होगा.
  • निवेश के लिए आपको स्टेप-अप एसआईपी का इस्तेमाल करना होगा.
  • 15 साल में 5 करोड़ रुपये के लक्ष्य को हासिल करने के लिए इक्विटी म्यूचुअल फंड में अपनी एसआईपी सालाना 15 फीसदी बढ़ानी होगी.

इतना निवेश करें

  • स्टेप-अप एसआईपी कैलकुलेटर के अनुसार 5 करोड़ रु पाने के लिए 15 साल की अवधि तक प्रति माह 41,500 रुपये की एसआईपी की जरूरत होगी
  • इन सालों में 12 फीसदी औसतन रिटर्न आपको मिल सकता है.
  • आपको हर साल अपनी एसआईपी में 15 फीसदी की बढ़ोतरी करनी होगी.
  • इसे ऐसे समझ सकते हैं कि अगर 2022 में आपकी एसआईपी 41,500 रुपये प्रति माह है तो 2023 में यह 47,725 रुपये और उससे अगले साल 54,883 रुपये होनी चाहिए. इसी क्रम में आपको आगे बढ़ना होगा.

12 फीसदी औसतन रिटर्न

  • 15 साल के लिए मासिक एसआईपी पर 12 फीसदी सालाना रिटर्न मानते हुए और एसआईपी में सालाना 15 फीसदी राशि बढ़ाते हुए एसआईपी रिटर्न कैलकुलेटर के अनुसार आपको शुरुआत 41,500 रुपये से करने होगी.
  • 15 साल के अंत में आपके हाथ में 5,01,20,99 या लगभग 5.01 करोड़ रुपये की मैच्योरिटी राशि आएगी.

(यहां ABP News द्वारा किसी भी फंड में निवेश की सलाह नहीं दी जा रही है. यहां दी गई जानकारी का सिर्फ़ सूचित करने का उद्देश्य है. म्यूचुअल फंड निवेश बाज़ार जोखिम के अधीन हैं, योजना संबंधी सभी दस्तावेज़ों को सावधानी से पढ़ें. योजनाओं की NAV, ब्याज दरों में उतार-चढ़ाव सहित सिक्योरिटी बाज़ार को प्रभावित करने वाले कारकों व शक्तियों के आधार पर ऊपर-नीचे हो सकती है. किसी म्यूचुअल फंड का पूर्व प्रदर्शन, आवश्यक रूप से योजनाओं के भविष्य के प्रदर्शन का परिचायक नहीं हो सकता है. म्यूचुअल फंड, किन्हीं भी योजनाओं के अंतर्गत किसी लाभांश की गारंटी या आश्वासन नहीं देता है और वह वितरण योग्य अधिशेष की उपलब्धता और पर्याप्तता से विषयित है. निवेशकों से सावधानी के साथ विवरण पत्रिका (प्रॉस्पेक्टस) की समीक्षा करने और विशिष्ट विधिक, कर तथा योजना में निवेश/प्रतिभागिता के वित्तीय निहितार्थ के बारे में विशेषज्ञ पेशेवर सलाह को हासिल करने का अनुरोध है.)

यह भी पढ़ें: 

Government Scheme: इस सरकारी योजना में करेंगे निवेश तो 25 साल में बन जाएगे करोड़पति, जानें कैसे

Mutual Funds: सिप के जरिए लगा रहे हैं पैसा, इन गलतियों से बचें, नहीं तो हो सकता है नुकसान



Source link

Leave a Comment